Friday , April 26 2019
Loading...
Breaking News

जेट एयरवेज का अपने विमानों को रोकने का सिलसिला जारी

जेट एयरवेज का अपने विमानों को उड़ान भरने से रोकने  उड़ानों को रद्द करने का सिलसिला जारी है इसी बीच कंपनी के विमान रख रखाव इंजीनियरों के संघ ने विमानन एरिया के नियामक नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) को मंगलवार को सूचना दी कि उन्हें तीन महीने से सैलरी नहीं मिली है  उड़ानों की सुरक्षा जोखिम में है जेट एयरक्राफ्ट इंजीनियर्स वेलफेयर एसोसिएशन (JAMEWA) ने डीजीसीए को एक लेटर में लिखा है, ‘ हमारे लिए अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करना कठिन हो गया है इसके परिणामस्वरूप विमान इंजीनियरों की मनोवैज्ञानिक स्थिति पर बुरा असर पड़ा है  यह उनके कार्य को भी प्रभावित करता है  ऐसे में राष्ट्र  विदेश में उड़ान भरने वाले जेट एयरवेज के विमानों की सुरक्षा जोखिम पर है ‘

इस बीच एविएशन मिनिस्टर सुरेश प्रभु ने विमानन मंत्रालय के सचिव से बोला कि वे Jet Airways मामले को लेकर एक इमरजेंसी मीटिंग आयोजित करें जेट के 41 विमान ग्राउंड हो चुके हैं, जिसकी वजह से लगातार फ्लाइट कैंसिल की जा रही है कैंसिलेशन, रीफंड  एडवांस बुकिंग की समस्याएं गंभीर होती जा रही है, जिससे यात्रियों को भारी कठिनाई हो रही हैसुरेश प्रभु ने विमान मंत्रालय के सचिव से बोला कि वे इस पूरे मामले पर गंभीरता से विचार करते हुए इमरजेंसी मीटिंग बुलाएं  इस  मामले में DGCA की रिपोर्ट तलब करें

चिट्ठी में बोला गया है कि एक तरफ वरिष्ठ प्रबंधन कारोबार में निवारण के तौर-तरीके खोज रहे हैं हम इंजीनियर पिछले सात माह से समय से वेतन नहीं मिलने से बहुत दबाव में हैं विशेष तौर पर तीन महीने से तो हमें वेतन मिला ही नहीं है हम विमानों की जांच करते हैं, उनकी मरम्मत करते हैं  यह प्रमाणित करते हैं कि विमान उड़ने लायक है या नहीं ‘

नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज ने सोमवार को अपने चार  विमानों को उड़ान भरने से रोक दिया था पट्टे पर लिए विमानों का किराया नहीं चुकाए जाने के चलते उसके परिचालन से बाहर हुए कुल विमानों की संख्या 41 हो गयी है जेएएमईडब्ल्यूए ने इस मामले में डीजीसीए से हस्तक्षेप की मांग की है

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *