Friday , May 24 2019
Loading...
Breaking News

अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित होने से बचाने के लिए चाइना ने किया इसका प्रयोग

संयुक्त देश सुरक्षा परिषद में एक बार फिर आतंक का साथ देने वाले चाइना के साथ हिंदुस्तान धैर्य की नीति अपनाएगा. लेकिन साथ ही हिंदुस्तान आतंक के विरूद्ध अपनी स्थिति के साथ बिलकुल भी समझौता नहीं करेगा. ये बात गवर्नमेंट के सूत्रों ने शनिवार को कही है. ये बात ऐसे समय में कही गई है जब संयुक्त देश में जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित होने से बचाने के लिए चाइना ने वीटो का प्रयोग किया है.
सूत्रों के मुताबिक चाइना को पाक के साथ कई मुद्दे सुलझाने हैं क्योंकि वो जानता है कि पाक की धरती पर कई आतंकवादी संगठन कार्य कर रहे हैं  जो चीनी हितों के भी विरूद्ध है.

चाइना पाक के साथ मुद्दे सुलझाएगा  हिंदुस्तान धैर्य रखेगा. हिंदुस्तान ने संयुक्त देश में चाइना सहित सभी सदस्य राष्ट्रों को मसूद अजहर के विरूद्ध सबूत दिखाए थे. शनिवार को संयुक्त देश में हिंदुस्तान के प्रवक्ता सईद अकबरुद्दीन ने ट्वीट कर कहा, “धैर्य- कूटनीति का एक जरूरी घटक.

सूत्रों के मुताबिक हिंदुस्तान चाइना को पाक के साथ मुद्दे सुलझाने के लिए समय देगा. हिंदुस्तान  चाइना के बीच उच्च स्तर पर कई हफ्तों से वार्ता चल रही है. वहीं पाक ने भी आतंक के विरूद्ध अभी तक कोई कदम नहीं उठाया है. जिन संगठनों पर उसने प्रतिबंध लगाया है उनपर भी प्रतिबंध नहीं लगा है. वह महज एक दिखावा मात्र है.

बुधवार को चाइना ने चौथी बार हिंदुस्तान की प्रयास को नाकाम करते हुए आतंकवादी मसूद अजहर को बचाया है. चाइना के इस कदम को हिंदुस्तान ने निराशाजनक बताया.हिंदुस्तान के पास अजहर के विरूद्ध पुख्ता सबूत हैं  उसे उम्मीद भी थी कि अजहर वैश्विक आतंकवादी घोषित हो जाएगा. लेकिन चाइना अपने सदाबहार दोस्त पाक का साथ देने के लिए आतंक का साथ देने से भी नहीं कतराया. सूत्रों के मुताबिक सुरक्षा परिषद में 14 में से 15 सदस्य हिंदुस्तान के साथ हैं. हिंदुस्तान तब तक आराम से नहीं बैठेगा जब तक अजहर पर प्रतिबंध ना लग जाए.

बता दें 14 फरवरी को जम्मू व कश्मीर के पुलवामा में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) पर हुए आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी भी जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *