Friday , May 24 2019
Loading...
Breaking News

जिहादी परिवारों के बच्चों के भविष्य को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए: संयुक्त देश

संयुक्त देश बाल खज़ाना (यूनिसेफ) ने सोमवार को बोला कि इस्लामिक स्टेट समूह के “खिलाफत’’ में पले-बढ़े बच्चों को आतंकी नहीं माना जाना चाहिए एजेंसी के पश्चिम एशिया एरिया के निदेशक ने बोला कि पूर्वोत्तर सीरिया में आईएस के आखिरी गढ़ से हाल ही में भागे जिहादी परिवारों के बच्चों के भविष्य को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए 

गीर्त कपिलेयर ने बेरूत में संवाददाता सम्मेलन में कहा, “ऐसे बच्चों की आवश्यकता नहीं, यह संदेश हर रोज मजबूत होता जा रहा है ” यूनिसेफ के मुताबिक अल-होल शिविर में फिल्हाल अनुमान के मुताबिक करीब 3,000 बच्चे रह रहे हैं हाल के हफ्तों में आईएस के “खिलाफत” की जकड़ से निकल भागे ज्यादातर लोग इसी शिविर में रह रहे हैं

ये लोग कम से कम 43 राष्ट्रों से हैं इनमें से ज्यादातर राष्ट्र उनकी संभावित राष्ट्र वापसी की समस्या को सुलझाने को लेकर अनिच्छुक हैं कपिलेयर ने बच्चों के गाने की एक सीडी के लॉन्च पर उन्होंने कहा, “यह ऐसी समस्या है जिसे ठंडे बस्ते में नहीं डाला जा सकता ” यह सीडी सीरियाई गृहयुद्ध की आठवीं बरसी के समय लॉन्च की गई है

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *