Wednesday , April 24 2019
Loading...
Breaking News

इस एयरक्राफ्ट को उड़ते ही करानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंग, यात्रियों ने लगाए ये आरोप

डायरेक्टरेट ऑफ़ सिविल एविएशन यानि DGCA के टीम ने रविवार को पंतनगर में पंतनगर – पिथौरागढ़ के बीच उड़ने वाले एयरक्राफ्ट की जांच की. शनिवार को इस एयरक्राफ्ट को उड़ते ही इमरजेंसी लैंडिंग करनी पड़ी थी. विमान में सवार यात्रियों का आरोप है कि बीच हवा में विमान का दरवाज़ा खुल गया था. पंतनगर एयरपोर्ट के डायरेक्टर एस के सिंह ने कहा कि विमान में कुछ दिक्कत थी. उनका कहना है DGCA की रिपोर्ट में वजह का पता चलेगा.

गौरतलब है कि शनिवार को पंतनगर से पिथौरागढ़ आ रहे प्लेन का दरवाजा हवा में खुलने के कारण हेरीटेज एविएशन के प्लेन को पंतनगर एयरपोर्ट में ही इमरजेंसी लैंडिंग करानी पड़ी. सुरक्षित लैंडिंग होने पर प्लेन में मौजूद 8 सवारियों के साथ पायलट और को-पायलट की जान में जान आई. प्लेन में मौजूद यात्रियों का साफ कहना है कि उड़ान भरने के 7 मिनट के भीतर ही दरवाजा टूट गया.

प्लेन में पत्नी और छोटे बच्चे के साथ बैठे पंकज चंद ने बताया कि उड़ान भरने के करीब 7 मिनट के भीतर एक धमाका जैसा हुआ. किसी को भी समझ नही आ रहा था कि आखिर हुआ क्या है? लेकिन उसी वक्त प्लेन का भीतरी दरवाजा टूट कर प्लेन के भीतर आ गया, जबकि बाहरी दरवाजा हवा में लटक गया. धमाका होने से सभी यात्रियों में दहशत फैल गई.
पंकज का कहना है कि उनका पूरी परिवार प्लेन में मौजूद था. इसे ध्यान में रखते हुए उन्होनें धैर्य बनाए रखा क्योंकि उनके डरने पर पत्नी और बच्चे भी डर जाते.

प्लेन में सवार डॉ लोकेश बोरा ने बताया कि जिस वक्त प्लेन का दरवाजा टूटा उस वक्त वे करीब 4 हजाऱ फिट की ऊंचाई पर होगा. साथ ही उन्होंने कहा कि उड़ान भरने के कुछ ही मिनटों के बाद को-पायलट दरवाजे के पास आया. लेकिन किसी ने इस पर ध्यान नहीं दिया. बोरा कहते है कि शायद उड़ान भरने के कुछ ही मिनटों में पायलट को पता चल गया था कि प्लेन में कुछ गड़बड़ी है. इसलिए 7 मिनट की उड़ान होने के बाद भी वो 4 हजार फिट की ऊंचाई तक ही पहुंचा था.

बता दें, केन्द्र सरकार की उड़ान योजना के तहत चीन और नेपाल से सटे पिथौरागढ़ को हवाई सेवा से जोड़ा गया है. 17 जनवरी से हेरीटेज एविएशन देहरादून से पिथौरागढ़ और पंतनगर से पिथौरागढ़ के बीच नियमित हवाई सेवा संचालित कर रहा है. लेकिन जिस प्लेन से ये हवाई सेवा संचालित हो रही है, उस पर कई सवाल खड़े हो गए हैं. उद्घाटन के दिन ही एक सीट की बेल्ट टूट गई थी. जिस कारण एक यात्री का वापस लौटना पड़ा था. यही नहीं, आए दिन प्लेन में आ रही खराबी के कारण यात्रियों को खासी फजीहत झेलनी पड़ रही है. हवाई सेवा शुरू हुए अभी मात्र 23 दिन हुई है, लेकिन 6 दिन प्लेन खराब रहा.

फिलहाल हेरीटेज एविएशन ने तकनीकी खराबी का हवाला देते हुए सभी रूट की फ्लाइट 12 फरवरी तक रद्द कर दी है. हेरीटेज एविएशन के अधिकारी रोहित माथुर ने हवा में दरवाज़ा खुलने से इनकार किया. न्यूज़ 18 से बात करते हुए उन्होंने उम्मीद जताई DGCA की रिपोर्ट में सब ठीक निकलेगा.

इधर उत्तराखंड के सचिव (सिविल एविएशन) दिलीप जावलकर का कहना है कि उन्हें भी हवाई यात्रा के दौरान हुई गड़बड़ की जानकारी मिली है. उनका कहना है राज्य सरकार अपने स्तर से भी पता लगवाएगी.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *