Tuesday , March 26 2019
Loading...
Breaking News

कांग्रेस पार्टी की मजबूत वापसी के लिए शीला दीक्षित कर रही है विचार

दिल्ली में कांग्रेस पार्टी की मजबूत वापसी के लिए जिस समय पार्टी की कोर कमेटी शीला दीक्षित के नाम पर विचार कर रही थी, अच्छा उसी समय वे चाणक्यापुरी में स्त्रियों के एक प्रोग्राम को संबोधित कर रहीं थीं. दिल्ली महिला कांग्रेस पार्टी की अगुवाई में आई सैकड़ों स्त्रियों को वे सिखा रहीं थीं कि पार्टी को जमीनी स्तर पर मजबूती देने के लिए वे किस तरह मजबूत भूमिका अदा कर सकती हैं. जैसे उन्हें पार्टी ने पहले से ही यह इशारा दे दिया था कि पार्टी की कमान उन्हें ही सौंपी जानी है, शीला दीक्षित ने अपने नामांकन से पहले ही अपनी टीम को मजबूत करने में जुट गयी थीं.

क्या है शीला की खासियत

दिल्ली प्रदेश महिला कांग्रेस पार्टी की अध्यक्ष शर्मिष्ठा मुखर्जी ने अमर उजाला को बताया कि अगले चुनाव से पहले हमारे पास बहुत कम समय बचा हुआ है, लेकिन पार्टी की मजबूती के लिए हमारे पास कार्य काफी है. लेकिन जब शीला दीक्षित जैसा अनुभव हमारे साथ जुड़ जाता है तो हमारा यही कार्य बेहद सरल हो जाता है.

वे बताती हैं कि शीला दीक्षित की सबसे बड़ी अच्छाई यह है कि वे सबके साथ बेहद सहज हैं. सबके साथ सरलता से घुलमिल जाती हैं. इससे पार्टी के कार्यकर्ता उन्हें अपना समझते हैं उनके प्रेरणा से खुशी के साथ पार्टी का कार्य आगे बढ़ाते हैं जिससे पार्टी को मजबूती मिलती है. उन्होंने बताया कि सभी महिला कार्यकर्ता शीला दीक्षित को अपने साथ पाकर बेहद खुश थीं.

आतंरिक संदेश प्रणाली मजबूत करने पर जोर

पार्टी ने दिल्ली के सबसे निचले स्तर के कार्यकर्ताओं को अपना सबसे मजबूत हथियार बनाने की रणनीति अपनाई है. शर्मिष्ठा मुखर्जी ने बताया कि दिल्ली में कुल 13,816 बूथ हैं. हर बूथ पर मुख्य टीम के आलावा उनके साथ-साथ स्त्रियों की एक विशेष टीम कार्य करेगी. हर बूथ की स्त्रियों को पार्टी के एक विशेष व्हाट्सएप ग्रुप से जोड़ा जा रहा है.

उन्होंने बोला कि पार्टी के स्तर पर पहले हर सप्ताह एक योजना तैयार की जायेगी, जो सभी महिला कार्यकर्ताओं को इस ग्रुप के माध्यम से पता चलेगी. उसी प्रोग्राम को उन्हें अपने मोहल्ले में उन दिनों में आगे बढ़ाना होगा. बाद में यही संदेश प्रतिदिन के स्तर पर बताए जाएंगे.

ऐसा नहीं है कि इसका प्रयोग सिर्फ संदेश देने के लिए ही किया जाएगा, बल्कि महिला कार्यकर्ताओं का फीडबैक भी इसके जरिए नेतृत्व को हमेशा मिलता रहेगा. इससे नेतृत्व अपनी योजना में जरुरी परिवर्तन कर सकेगा.

50 प्रतिशत आबादी कांग्रेस पार्टी का लक्ष्य

शर्मिष्ठा मुखर्जी ने बताया कि हर समाज में आधा भाग स्त्रियों का होता है, इसलिए उन्होंने इसके माध्यम से महिला वोटरों को ही लक्ष्य करने की रणनीति बनाई है. उनकी प्रयास होगी कि दिल्ली के हर परिवार की एक महिला उनसे सीधे जुड़े  वे खुद उस तक सीधे पहुंचें.

उन्होंने बोला कि स्त्रियों की भाषा बहुत सभ्य  प्रभावशाली होती है. पुरुष मतदाता भी उनकी बात गंभीरता से सुनते हैं. यही कारण है कि वे चाहती हैं कि इन स्त्रियों के जरिए वे बड़ा बदलाव करें. उनके लक्ष्य में मोदी  केजरीवाल गवर्नमेंट की नाकामियों की लंबी फेहरिस्त है इसे वे अपने इन संदेश वाहकों के जरिए लोगों तक पहुंचाना चाहती हैं.

तकनीकी सिखाई

इस प्रोग्राम में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ-साथ तकनीकी रूप से दक्ष टीम ने भी भाग लिया. उन्होंने महिला कार्यकर्ताओं को पार्टी के शक्ति एप के बेहतर प्रयोग की ट्रेनिंग दी. इसके आलावा पार्टी के संदेशों को जनता के बीच ले जाने के लिए फेसबुक, व्हाट्सएप  अन्य माध्यमों का कैसे बेहतर प्रयोग करना है, इसकी जानकारी भी दी.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *