Thursday , December 13 2018
Loading...

यहाँ शिव की मूर्तियों को आज तक कोई नही पाया छू, जानिए क्यों है ऐसा

दुनिया में ऐसी कई चमत्कारी चीजें हैं जिनके बारे में जानकारी ले पाना और उन्हें पूरी तरह से समझ पाना बहुत मुश्किल हैं। खासकर हमारे देश के मंदिरों से जुड़े चमत्कारों के पीछे की वजह जान पाना तो नामुमकिन हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जहाँ के शिव मंदिर की मूर्तियों को आज तक कोई छू नही पाया हैं। लेकिन ऐसा क्यों है आइये जानते हैं।

Loading...

छत्तीसगढ के जगदलपुर जिला मुख्यालय से करीब 35 किलोमीटर दूर इंद्रावती नदी के किनारे शिवमंदिर परिसर में बिखरी पडी 10वीं शताब्दी की मूर्तियों को छिंदगांव के ग्रामीण छूने से डरते हैं।

उनके राजा ने 74 साल पहले उन्हें ऐसा करने से मना किया था। राजाज्ञा की वह तख्ती आज भी इस मंदिर परिसर में टंगी है। बस्तरवासी अपने राजाओं का आदर करते रहे हैं और आज भी उनके आदेशों का सम्मान करते हैं, चूंकि वे बस्तर राजा को ही अपनी आराध्या मां दंतेश्वरी का माटी पुजारी मानते हैं।

loading...

देश की आजादी के साथ ही 69 साल पहले रियासत कालीन व्यवस्था समाप्त हो गई है, लेकिन लोहंडीगुड़ा विकासखंड के ग्राम छिंदगांव के ग्रामीण आज भी 1942 में जारी राजाज्ञा का पालन कर रहे हैं। इंद्रावती किनारे स्थित छिंदगांव के गोरेश्वर महादेव मंदिर में पुराने शिवलिंग के अलावा भगवान नरसिंह, नटराज और माता कंकालिन की पुरानी मूर्तियां हैं।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *