Thursday , December 13 2018
Loading...

जांच रिपोर्ट में सिद्धू व उनकी पत्नी नवजोत कौर को क्लीन चिट

जांच रिपोर्ट में पंजाब के कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू  उनकी पत्नी नवजोत कौर को क्लीन चिट दी गई है सूत्रों के हवाले से यह समाचार सामने आ रही है

Loading...

दरअसल, इस मामले में न्यायिक जांच बिठाई गई थी  इसका जिम्‍मा जालंधर के डिविजनल कमिश्नर बी पुरुषार्थ पर था उन्‍होंने अपनी 300 पन्नों की जांच रिपोर्ट में सिद्धू दंपति को कलीन चिट दी है

सूत्रों के मुताबिक, जांच रिपोर्ट में बोला गया है कि घटना वाले दिन आयोजित दशहरा प्रोग्राम के आयोजकों मिठू मदान सहित अन्य ने इस समारोह के लिए सही इजाजत नहीं ली थी न ही भीड़ को नियंत्रण करने के लिए कोई प्रबन्ध था माना जा रहा है कि जल्द ही इस रिपोर्ट को CM कैप्टन अमरिंदर सिंह सामने लाएंगे

loading...

उल्‍लेखनीय है कि अमृतसर में विजयदशमी के दिन हुए रेल हादसे में रेल सुरक्षा के मुख्य आयुक्त (सीसीआरएस) द्वारा की गई जांच में इस त्रासदी के लिए रेलवे ट्रैक के समीप खड़े लोगों की ‘लापरवाही’  ‘अनधिकार प्रवेश’ को जिम्मेदार ठहराया गया था इस हादसे में 60 लोगों की मौत हुई थी आधिकारिक सूत्रों ने बताया था कि, “अपनी रिपोर्ट में सीसीआरएस एस के पाठक ने लोगों की लापरवाही को घटना का कारण बताया है, जिन्होंने रेलवे ट्रैक पर अनधिकार प्रवेश किया था ”

कि अमृतसर के जोड़ा फाटक के समीप जहां रावण का पुतला जलाया जा रहा था, वहां करीब 50 पुलिसकर्मी तैनात थे उन्होंने कहा, “कुछ पुलिसवालों ने भीड़ को ट्रैक से दूर हटाने का कोशिशकिया, लेकिन भीड़ उनकी बात नहीं सुन रही थी ”

जांच रिपोर्ट में पाया गया कि मार्ग पर तीव्र मोड़ होने के कारण एक्सीडेंट स्थल पर भीड़ को ट्रेन 250 मीटर तक दिखाई नहीं दी थी घटना करीब सात बजे की है  इस दौरान रावण का पुतला पटाखे जलाए जाने के कारण वातावरण में धुआं फैला हुआ था

रिपोर्ट में बोला गया, “अन्यथा सीधे ट्रैक पर हेडलाइट चालू होने से दृश्यता 200 मीटर होती है ” सीसीआरएस ने यह भी चिन्हित किया कि मार्ग पर अनुमत अधिकतम गति 100 किलीमटर प्रति घंटा है  हादसे के वक्त ट्रेन की गति 82 किलोमीटर प्रति घंटा थी ट्रेन के लोको पायलट ने जब भीड़ को देखा तो आपातकालीन ब्रेक लगाए थे पाठक ने रिपोर्ट में यह भी बोला था कि दशहरा के बारे में आयोजकों  लोकल प्रशासन ने रेलवे को कोई जानकारी नहीं दी थी

अमृतसर से सांसद गुरजीत सिंह औजला ने 23 अक्टूबर को रेल मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात की थी  जांच की मांग की थी जिसके बाद रेल मंत्रालय ने सीसीआरएस जांच का आदेश दिया था

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *